सोमवार, 10 दिसंबर 2007

पूरब वाले घर में पैदा हुए थे बोधिसत्व




आज बोधि का जन्म दिन है। वैसे बोधि 11 दिसंबर 1968 की रात में 2 बज कर 15 मिनट पर अपने गाँव भिखारी राम पुर के पूरब वाले घर में जन्में थे। ऐसा मुझे मेरी सासू मां ने बताया था। इस हिसाब से उनका जन्म दिन बारह दिसंबर भी हो सकता है. । अपने जन्म प्रसंग को बोधि ने अपनी एक कविता में कुछ ऐसे लिखा है-
मैं सोता हूँ किन्हीं पसलियों की ठंड़ में
या अपने पूरब वाले घर में
जिसमें मैं पैदा हुआ था
जाड़ों की भोर में कभी
मुझे और कहीं कल नहीं।

सच में बोधि को और कहीं कल नहीं है। पर समय के हिसाब से हर कोई घर से निकलता ही है।मैं पिछले सोलह सालों से बोधिसत्व को जानती हूँ और हर जन्म दिन पर बोधि अपने पूरबवाले घर के लिए छटपटाते हैं। इलाहाबाद में रहते थे तो पूरब के घर तक हर जन्मदिन में पहुंच पाते थे पर मुंबई के बाद सब कुछ सपना सा हो गया है। उनके लिए भी और हम सब के लिए भी।

आज सुबह होते ही मानस ने उन्हें जनम दिन की शुभकामनाएँ दे दीं हैं भानी का कहना है कि आज पापा का नहीं उनका ही हैप्पी बर्थडे है। बोधि के मित्रों और घर वालों के बधाई वाले फोन आ रहे है । बोधि खुश है। अपने हर जनम दिन पर यह बंदा लगभग बच्चों सा हो जाता हैं...भोला, जिद्दी और भावुक।

ऊपर की फोटो में बोधि गोवा के समुद्र में तन और मन को स्फूर्ति से भर रहे हैं। अपने जिद्दी बंदे को जन्म दिन की ढेरों शुभकामनाएँ

25 टिप्‍पणियां:

अभय तिवारी ने कहा…

प्रिय मित्र बोधि को जन्मदिन की ढेरो-ढेर शुभकामनाएं!

Beji ने कहा…

"अपने हर जनम दिन पर यह बंदा लगभग बच्चों सा हो जाता हैं...भोला, जिद्दी और भावुक।"

बड़ी लक्की हैं आप कि ऐसा जन्मदिन पर ही होता है।
हमारी भी शुभकामनायें।

Aflatoon ने कहा…

बोधिसत्व खुश रहें,आबाद रहें।चाहे मुम्बई रहें चाहें फ़र्रुख़ाबाद रहें !

बाल किशन ने कहा…

हमारी तरफ़ से भी जन्मदिन के ढेर सारी बधाईया और शुभकामनाएं.

अजित वडनेरकर ने कहा…

बोधिभाई को भी मुबारकबाद और आपको भी ....

अनूप शुक्ल ने कहा…

आपके ,बच्चे जैसे भोले, जिद्दी और भावुक, बंदे को
जन्मदिन की मंगलकामनायें। शुभकामनायें।

PD ने कहा…

बोधिसत्व जी के साथ-साथ आपको, मानस और भानी को भी ढेर सारी सुभकामनाऐं.. चिट्ठों कि दुनिया में रहते हुये ऐसा लगता ही नहीं की कभी आपलोगों से मिला नहीं हूं.. सभी अपने से लगते हैं.. :)

मीनाक्षी ने कहा…

सभी परिवार को बोधिजी के जन्म दिवस पर ढेरों शुभकामनाएँ. PD सच कहते हैं कि चिट्ठाजगत पर सिर्फ पढने पर भी लगता है कि सब अपने से हैं..

ज्ञानदत्त पाण्डेय । GD Pandey ने कहा…

बोधिस्त्व जी को 40वेँ जन्मदिन पर हार्दिक बधाई। और आप-बच्चों को भी।
इस ब्लॉगजगत मेँ ही मैने जाना जन्मदिन की सनसनी और महत्व को। बहुत अच्छा लगता है जन्मदिन का अहसास।

आपकी बिटिया भानी को भी उसके जन्म दिन का स्नेह! :-)

महेंद्र मिश्रा ने कहा…

बोधिजी के जन्म दिवस पर शुभकामनाएँ.

आलोक ने कहा…

जन्मदिवस की शुभकामनाएँ।

Shiv Kumar Mishra ने कहा…

बोधि भाई को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें....पूरब की दिशा से भेज रहा हूँ, ये शुभकामनायें...:-)

Sanjeet Tripathi ने कहा…

बोधि जी को सपरिवार बधाई।
शुभकामनाएं उन्हें, चलती रहे उनकी कलम!!

ALOK PURANIK ने कहा…

बोधिजी को कई ब्लाग भर कर शुभकामनाएं जी।
एक स्पेशल सा धांसू च फांसू केक उनके लिए बनवाईये जी। खिलाईये जी। उसका बिल हमरे नाम ठोंकिये जी। 22 तारीख को मुंबई आ रहा हूं, तब मिलकर हिसाब साफ कर दूंगा।

mamta ने कहा…

बोधि जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं ।

ब्रजेश ने कहा…

bodhi bhai ko janmdin kee bahut-bahut badhai.mast rahen vyast rahen.

अनिल रघुराज ने कहा…

'अपनों का घर' से बाहर का यह बंदा भी बोधि जी को उनके जन्मदिन की शुभकामनाएं दे रहा है। कितना सुखद है कि पिता के जन्मदिन को बच्चे भी अपना हैपी बर्थडे मना रहे हैं।

Mired Mirage ने कहा…

बोधिजी के जन्म दिवस पर शुभकामनाएँ.
घुघूती बासूती

vijayshankar ने कहा…

डॉक्टर अखिलेश मिश्र को जन्म दिन की अनेकानेक शुभकामनाएं! भानी को भी, जो इसे अपना जन्मदिन समझ रही है. क्या पता मानस भी कुछ देर में कहने लगे कि यह उसका भी जन्मदिन है. वह पीछे क्यों रह जाए भला? एक बार फ़िर ढेर सारी मुबारकबाद बोधि को.

Priyankar ने कहा…

बधाई ! बहुत-बहुत बधाई !

और 'फ़ाइनल' करके बताइए जन्मदिन कब माना और मनाया जाए . ग्यारह को या बारह को . कल को इतिहास में 'कन्फ़्यूज़िंग' किस्म के 'स्टेटमेंट' और दुविधा वाली स्थिति रहेगी .

अब घड़ी और आईएसटी के हिसाब से तो दो बजते ही अगला दिन लग जाता है. सो बारह ज्यादा सही लगती है . या भारतीय पंचांग के हिसाब से सूर्योदय से सूर्योदय वाला मामला है तो ग्यारह ही मान कर चलते हैं .

आप मुम्बई में उनकी गार्ज़ियन हैं, सो हमेशा के लिए इनमें से एक तारीख तय करके गफ़लत की गुंजाइश खत्म कर दीजिए .

नीरज गोस्वामी ने कहा…

बोधि जी को जनम दिवस की शुभकामनाएं इस आशीर्वाद के साथ की इश्वर सदा उनके साथ रहे.
नीरज

आभा ने कहा…

आप सब की शुभकामनाएँ और बधाइयाँ बोधिसत्व तक पहुँच गई हैं...
आलोक भाई केक का चेक हम पा लिए आपसे आपकी शुभकामना जो मिल गई...
अनिल रघुराज जी आप घर के ही हैं...घर में आप की जगह पक्की हो गई है....भूल के लिए क्षमा करें....
प्रियंकर जी हम सब तो 11 दिसंबर को ही मनाते-मानते है...यही तय है।
पीडी जी हम सब इसी तरह से महसूस करते हैं...
ज्ञान जी भानी की तरफ से आपको धन्यवाद...
शिव जी पूरब से आई शुभकामना में बहुत मिठास है...
विजय शंकर जी
अखिलेश तक आपकी शुभकामना पहुँच गई है....

vimal verma ने कहा…

पहले तो आपको जन्मदिन की ढेर सारी बधाई, अभी बस जन्म्दिन देखकर ही बधाई देने चला आया, अभी अभी ऑफ़िस से लौटा हूं,पोस्ट पर प्रतिक्रिया बाद में,्जब मिले थे तो वही बता दिये होते तो बधाई और मीठा वहीं बांट लेते!

Sanjeeva Tiwari ने कहा…

बोधि भईया को जनम दिन की हार्दिक शुभकामनायें ।

हर्षवर्धन ने कहा…

बोधि भाई को देर से जन्मदिन की बधाई। समीर लाल जी के आने पर एक मुलाकात तो हो गई। आगे मुलाकात में ज्यादा जानने को कोशिश रहेगी।