रविवार, 30 अगस्त 2009

सुनती हूँ यह सब डरी हुई

बहुत दिनों बाद कोई कविता छाप रही हूँ। कुछ मित्रों को सुनाया तो इस पर मिली-जुली प्रतिक्रिया आई। फिलहाल इसे कुछ और कविताओं के साथ जयपुर के एक अखबार डेली न्यूज में छपने के लिए भेज दिया है। उसके पहले यहाँ पढ़ें।

सुनती हूँ यह सब कुछ डरी हुई

मैं बाँझ नही हूँ
नहीं हूँ कुलटा
कबीर की कुलबोरनी नहीं हूँ ।

न केशव की कमला हूँ
न ब्रहमा की ब्रह्माणी
न मंदिर की मूरत हूँ।

नहीं हूँ कमीनी, बदचलन छिनाल और रंडी
न पगली हूँ, न बावरी
न घर की छिपकली मरी हुई
फिर भी
मैं सुनती हूँ यह सब कुछ डरी हुई।

नींद में सुनती हूँ गालियाँ दुत्कार
मुझे दुत्कारता यह
कौन है ....कौन है ......कौन है.....
जो देता है सुनाई
पर नहीं पड़ता दिखाई
हर तरफ छाया बस
मौन है मौन है मौन है।

9 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत गहरी अभिव्यक्ति!

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

सुंदर कविता है।

श्यामल सुमन ने कहा…

"सुनती हूँ यह सब डरी हुई" - अपने में गहरे अर्थ समेटे भावपूर्ण रचना आभा जी।

संगीता पुरी ने कहा…

सुंदर अभिव्‍यक्ति !!

अनूप शुक्ल ने कहा…

शायद सदियों के अनुभव का डर है यह। अच्छा लगा इसे पढ़ना!

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` ने कहा…

बेहद संवेदनापूर्ण प्रवाह लिए कविता बन पडी है ...आगे भे लिखियेगा
- लावण्या

manisha ने कहा…

gud, bht aachhee.
aabhaa me manisha, i think u sud write 4 me 2. mai rastriya sahara hindi daily ce hu,or mahilaon ka supliment nikaltee hu. u cn contact me manisha0011@yahoo.co.in ya 0120-2598411 in office hours.
hope u lik it.
tk care

ज्ञानदत्त पाण्डेय | Gyandutt Pandey ने कहा…

डरी हुई है, इस लिये सुनती है।
डर तो गहरे गड़ी फांस है। बहुत यत्न से निकलती है। कभी निकालने की जद्दोजहद में और धंस जाती है!

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

अच्छी कविता